पंचतत्व में विलीन हुई राजमाता सीतादेवी शाह, हजारो लोगो ने दी श्रद्धांजलि

जन्म तिथि 12 अगस्त 1932
निधन 7 दिसंबर 2018

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

तरुण गौर पीपल्या
हरदा/ मकड़ाई समाचार
मध्यप्रदेश के कबीना मंत्री विजय शाह, टिमरनी विधायक संजय शाह की माता जी सीतारानी शाह का 86 वर्ष की उम्र में भोपाल के बंसल हॉस्पिटल में शुक्रवार को निधन हो गया। पूर्व रियासत मकड़ाई की राजमाता महारानी सीतारानी शाह गंगाहुजुर का पार्थिव शरीर शनिवार को गृह ग्राम खुदिया लाया गया। जिसे अंतिम दर्शन हेतु खुदिया महल में रखा गया। जहां हजारों लोगों ने राजमाता गंगाहुजुर के अंतिम दर्शन किए। राजमाता की शवयात्रा खुदिया के प्रमुख मार्गों से होते हुए मकड़ाई स्थित फतेहगंज में स्थित पारिवारिक गुढ़ी समाधियों के पास पहुँची। जहां राजमाता का अंतिम संस्कार गायत्री परिवार के नर्मदा प्रसाद गौर द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार के साथ राजकीय सम्मान के साथ कराया गया। राजमाता गंगाहुजुर के पार्थिव शरीर को सबसे छोटे पुत्र टिमरनी विधायक संजय शाह ने मुखग्नि दी। राजमाता के अंतिम दर्शन हेतु पूर्व मकड़ाई रियासत के हजारों लोगों ने उपस्थित होकर श्रद्धांजलि दी।

मंत्री विजय शाह ने चलाया वाहन :-
राजमाता के पार्थिव शरीर की अंतिम यात्रा राजकीय सम्मान के साथ निकाली गई। अंतिम यात्रा के लिए प्रयुक्त वाहन को खुदिया से मकड़ाई फतेहगंज तक मध्यप्रदेश शासन के कबीना मंत्री विजय शाह ने चलाया।
राजमाता सीतारानी शाह गंगाहुजुर की अंतिम यात्रा में भाजपा एवं कांग्रेस के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता भी भारी संख्या में उपस्थित होकर श्रंद्धांजलि देने पहुँचे। हरदा विधायक आरके दोगने, कांग्रेस जिलाध्यक्ष लक्ष्मीनारायण पंवार भाजपा के जिलाध्यक्ष अमरसिंह मीणा भी मुख्य रूप से उपस्थित हुए।

परिवार की जानकारी :
पूर्व रियासत मकड़ाई की राजमाता सीतारानी शाह के चार पुत्र है। सबसे बड़े पुत्र अजय शाह कांग्रेश आदिवासी प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष, दूसरे कबीना मंत्री विजय शाह, तीसरे धनंजय शाह डीएसपी, चौथे टिमरनी विधायक संजय शाह है।

चार भाषाओं का था ज्ञान

शिक्षित, हँसमुख, मिलनसार व्यक्तित्व की धनी सीतारानी शाह गंगाहुजुर को चार भाषाओं हिंदी , अंग्रेजी, तमिल और मलयालम का ज्ञान था। राजमाता नेपाल के राजा पदमा के बेटे राजा जोधाजंग की बेटी थी। जिनका विवाह सन 1953 में मकड़ाई रियासत के राजा देवीशाह के साथ हुआ था।

पूर्व मकड़ाई रियासत की संक्षिप्त जानकारी :-
पूर्व रियासत मकड़ाई राजघराने में राजा देवीशाह एव राजमाता के चार पुत्र एवं चार पुत्रियां हुई। चार पुत्रों में पहले पुत्र राजा अजय शाह, दूसरे विजय शाह, तीसरे धनंजय शाह एव चौथे पुत्र संजय शाह हुए। एवं चार पुत्रियों में पहली किरण सिंह, दूसरी उमा हमाल, तीसरी पूर्णिमा सिंह, एवं चौथी अर्चना थापा है। राजा देवीशाह के निधन के बाद राजमाता सीतारानी शाह गंगाहुजुर के ऊपर परिवार की पूरी जिम्मेदारी आ गई। परिवार के लोगों ने उनके पुत्रों को खेती किसानी करने को कहा। लेकिन राजमाता ने जिम्मेदारी निभाते हुए बच्चों को पढ़ा लिखाकर नाम बनाने की सोच रखते हुए अपने कर्तव्य का निर्वहन करने का संकल्प लिया। राजमाता ने अपने बच्चों को इस काविल बनाया। पहले पुत्र अजय शाह केनरा बैंक के महाप्रबंधक रहे , एवं वर्तमान में कांग्रेस के आदिवासी प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष है। दूसरे पुत्र विजय शाह मध्यप्रदेश शासन के शिक्षा मंत्री है। तीसरे पुत्र धनंजय शाह पुलिस विभाग में डीएसपी है। एवं चौथे पुत्र संजय शाह टिमरनी विधानसभा के विधायक है। चारों पुत्रियों का विवाह हो चुका है। राजमाता सीतारानी शाह ने जीते जी अपने कर्तव्य को पूर्ण कर अपने बच्चों को इस काबिल बनाया कि आज पूरा प्रदेश मकड़ाई रियासत के राजपरिवार शाह परिवार को पहचानता है।

About Mohan Gurjar

Mohan Gurjar

Check Also

पत्रकारों को जनहित के मुद्दे हमेशा उठाना चाहिये- प्रहलाद शर्मा

मकड़ाई समाचार पत्र का प्रमुख कार्यालय का जिला मुख्यालय पर हुआ शुभारंभ मकड़ाई समाचार हरदा/ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हरदा: जनसुनवाई में एडीएम के विवादित बोल , क्या घर घर गॉव गॉव खुलवा दु खरीदीं केंद्र, किसानों ने लगाया आरोप     |     आमिर खान की ‘रुबरू रोशनी’ की स्पेशल स्क्रीनिंग में शामिल हुए बॉलीवुड के ये सितारे     |     भोपाल से चुनाव लड़ने की खबर पर करीना ने दिया जवाब, कहा- इतनी फुर्सत नहीं…     |     PICS: ऑफ शाॅल्डर टाॅप में नेहा ने दिखाए हुस्न के जलवे     |     कोहली को खली हार्दिक की कमी, बोले- अब विशेषज्ञ तेज गेंदबाज को देना पड़ेगा चांस     |     11 साल बाद भज्जी को हुआ पछतावा, बोले- नहीं मारना चाहिए था श्रीसंत को थप्पड़     |     स्टीपास और कोलिंस ऑस्ट्रेलियन ओपन में विजेता बनने से 2 कदम दूर     |     अफगान सैन्य अड्डे पर तालिबान हमले में 100 से ज्यादा सुरक्षाकर्मियों की मौत     |     इंडोनेशिया में 6.0 तीव्रता का भूकंप के झटके     |     पाकिस्तान की कोयला खदान में धमाका, 3 की मौत     |