Wednesday , November 13 2019

भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग लड़ेंगे सेवाराम भ्रष्टाचार रूपी दानव को मिटाने 572 गॉवो की यात्रा, गॉव गॉव चलाएंगे अभियान, ग्रामीणों को करेगे जागरूक

मकड़ाई समाचार हरदा/ देश मे चारो ओर भ्रष्टाचार रूपी दानव पैर पसारकर बैठा हुआ है। ऐसा कोई विभाग नही जहा बिना रिश्वत के कोई काम हुआ है। रिश्वत नही दी तो चक्कर पर चक्कर लगवाते है अधिकारी, किसानों को भी तारिक पर तारिक मिलती है। गरीब लाचार व्यक्तियों की चप्पल घिस जाती है। न्याय के इन मंदिरों में शासकीय विभागों में चपरासी से लेकर बड़े अधिकारी, नेता मंत्री अधिकतर वर्तमान में भ्रष्टाचार में लिप्त है। जिन्होंने काली कमाई से करोड़ो रूपये की संम्पति अर्जित कर ली गरीब आज भी गरीब है। देश आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रहा है। चारो ओर रिस्वतखोरो दलालों का बोलबाला है। और इन सबको मिटाने के लिए हरदा के एक किसान ने जंग का ऐलान कर दिया। जिले के देवतलाब निवासी सेवाराम बछानिया की अनोखी पहल वह भ्रष्टाचार रूपी दानव को मिटाने स्वयं अकेले ही 572 गॉवो में भ्रस्टाचार को मिटाने अर्थी निकालकर लोगो को जागरूक कर रहे है।समाचार से चर्चा में उन्होंने बताया कि भारत मे अगर भ्रष्टाचार मिट जायेगा। तो गरीबी मिट जाएगी। देश की आर्थिक स्थिति सुधर जायेगी। देश फिर से सोने की चिड़िया कहलायेगा। किसान पुत्र सेवाराम प्रतिदिन जिले के गॉव गॉव मोटरसाइकिल के पीछे लगी हुई ट्राली में खुले हाथ वाली भ्रस्टाचार रूपी पुतते की अर्थी लेकर गॉव गॉव जाकर अभियान चला रहे है। साथ ही साथ ही भारत संसार सार मंथन नाम से सदस्यता अभियान चला रहे जिसकी सदस्यता शुल्क भी मात्र 1 रुपया है। श्री बछानिया का कहना है। कि हम इस मुहिम में जागरुक युवा, बुद्धिजीवी वर्ग के लोगो को जोड़ेंगे। तहसील स्तर ग्राम स्तर पर अधिक से अधिक हमसे जुड़े ताकि भ्रस्टाचार रूपी दानव को हम जड़ से खत्म कर दे। उन्होंने बताया कि मेरी यह यात्रा 572 गॉवो में जाएगी। अधिक से अधिक लोगो को जोड़कर भ्रस्टाचार के खिलाफ आवाज उठाएंगे। जिले से भ्रस्टाचार को खत्म करना ही मेरा मकसद है। स्वयं के व्यय पर वह यह यात्रा कर रहे है। वह पहले सरकारी शासकीय नोकरी में थे। सबसे ज्यादा उनके विभाग में ही भ्रस्टाचार हुआ। उसी को खत्म करने 2 अक्टूम्बर गांधी जी के जन्मदिन से इस अभियान की शुरुआत की। जिसकी ग्रामीण खुले दिल से सराहना कर रहे है।

आंकड़े यह बताते है कि

1976 से 1985 तक 10 वर्षो में। भ्रष्टाचार प्रथम पायदान पर था।

1986 से 1995 तक 10 से 20 वर्ष में भ्रष्टाचार
द्वितीय पायदान पर

1996 से 2000 तक भ्रष्टाचार
तृतीय पायदान पर

2001 से 2018 तक भ्रष्टाचार की कोई सीमा नही। अब शर्म नाम की कोई चीज नही। अब नमक में आटा डालने जैसा भ्रष्टाचार हो गया।

About Mohan Gurjar

Mohan Gurjar

Check Also

प्रशासन की अनदेखी, स्कूल और क्लिनिक के आस-पास खुल गई फटाखों की दुकान, मासूम बच्चो की जान हथेली पर 

सोनू ढोके सवांददाता मकड़ाई समाचार हरदा / नेहरू स्टेडियम के पास देव उठनी ग्यारस पर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Rahul Gandhi के “चौकीदार चोर है” के बयान पर भी कुछ देर में आने वाला है SC का फैसला     |     भाजपा ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने के लिए शिवसेना को जिम्मेदार ठहराया     |     खट्टर सरकार का पहला कैबिनेट विस्तार कल, नए मंत्री लेंगे शपथ     |     विधायक लोधी की सदस्यता बहाल करने के लिए BJP प्रतिनिधि मंडल राज्यपाल से करेगा मुलाकात     |     कमलनाथ मजबूत CM बनकर दिखाएं, मजबूर नहीं: लक्ष्मण सिंह     |     अमेरिकी जनता के सामने सुनवाई, पता चलेगा कितना सच और कितना झूठ बोलते हैं ट्रंप     |     दिल्ली: हाइड्रोजन आधारित ईंधन तकनीक से दूर होगा वायु प्रदूषण, SC ने केंद्र से उपाय तलाशने को कहा     |     राफेल, राहुल और सबरीमला मामलों पर कल कोर्ट में ‘सुप्रीम’ फैसलों का दिन     |     CJI का दफ्तर RTI के दायरे में आएगा या नहीं, सुप्रीम कोर्ट का फैसला कुछ देर में     |     अयोध्या पर फैसले के बाद साइबर पैट्रोलिंग ने सोशल मीडिया को जकड़ा, 99 अफवाह फैलाने वाले गिरफ्तार     |    

Makrai Samachar

MAKDAI SAMACHAR © 2018, All Rights Reserved. | Design & Developed by SMC Web Solution.


MAKDAI SAMACHAR © 2018, All Rights Reserved. | Design & Developed by SMC Web Solution.