Wednesday , December 11 2019

चंद्रयान-2: चांद पर लैंडर विक्रम का पता चला, जानें अब आगे क्या करेगा इसरो

बेंगलुरू. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (ISRO) चीफ के. सिवन ने महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट चंद्रयान 2 (Chandrayaan 2) को लेकर रविवार को बताया कि चंद्रमा की सतह पर विक्रम लैंडर का सटीक लोकेशन पता चल गया है. सिवन ने साथ ही बताया कि ऐसा लग रहा है कि लैंडर विक्रम ने हार्ड-लैंडिंग की होगी, हालांकि योजना उसकी सॉफ्ट-लैंडिंग कराने की थी, जो कामयाब नहीं हो सकी. लैंडर के सटीक लोकेशन का पता चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर द्वारा खींचे गए थर्मल इमेज से चला है. अब जो सबसे बड़ा मुद्दा है वो ये कि इसरो के पास आगे क्या विकल्प बचे हैं.

लैंडर विक्रम से एकबार फिर संपर्क स्थापित करना
फिलहाल लैंडर विक्रम का लोकेशन ही पता चल सका है. उससे संपर्क स्थापित करना अभी बाकी है. जो इस वक्त इसरो की सबसे बड़ी प्राथमिकता है. इसके बाद ये पता लगाना होगा कि उसकी लैंडिंग कैसे हुई है और वो किस हाल में चांद पर मौजूद है, उसे कितना नुकसान पहुंचा है या वो ठीक है. अंतरिक्ष मामलों के एक जानकार ने मीडिया को बताया है कि यदि हार्ड-लैंडिंग के बाद विक्रम चांद की सतह पर सीधा खड़ा होगा और उसके पार्ट्स को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा होगा तो उससे फिर से संपर्क स्थापित किया जा सकता है. लैंडर विक्रम के अंदर ही रोवर प्रज्ञान है. प्रज्ञान को सॉफ्ट-लैंडिंग के बाद चांद की सतह पर उतरना था.

ऑर्बिटर की मदद से लैंडर विक्रम की स्थिति का पता लगाना


चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर सही तरीके से चांद की कक्षा में चक्कर लगा रहा है. वो लगभग 100 किलोमीटर की ऊंचाई पर परिक्रमा कर रहा है. वो साढ़े 7 वर्षों तक सक्रीय रहेगा और हमतक चांद की हाई रेजॉलूशन फोटो और अहम डेटा पहुंचाता रहेगा और चांद को लेकर छिपे कई राज का पता भी लगाएगा. इन्हीं हाई रेजॉलूशन फोटो से चांद की सतह पर लैंडर विक्रम की स्थिति का पता चलेगा. ऑर्बिटर में कैमरे समेत 8 उपकरण मौजूद हैं जो काफी आधुनिक हैं. ऑर्बिटर का कैमरा अबतक के सभी मून मिशनों में इस्तेमाल हुए कैमरों में सबसे आधुनिक और बेहतर है.

डेटा का विश्लेषण
जिस लोकेशन पर लैंडर विक्रम से संपर्क समाप्त हुआ था, उसी लोकेशन से ऑर्बिटर आगे के 2 दिनों तक गुजरेगा. लैंडर की लोकेशन की जानकारी मिलने के बाद वो लैंडर की हाई रेजॉलूशन फोटो ले सकता है. डेटा का विश्लेषण सबसे खास है. इसरो ऑर्बिटर द्वारा भेजे गए डेटा के विश्लेषण से ही किसी निष्कर्ष पर पहुंचेगा. आने वाले 12 दिन बहुत अहम हैं. इसी अवधि में हमें लैंडर की स्थिति के बारे में पता चल सकेगा. के. सिवन ने शनिवार को कहा था कि अगले 14 दिनों में लैंडर विक्रम को ढूंढा जा सकेगा.

About Mohan Gurjar

Mohan Gurjar

Check Also

चंद्रयान 2 : लैंडर विक्रम पर माइनस 200 डिग्री सेल्सियस का कहर!

क्या एक बार फिर से लैंडर विक्रम (Vikram) से इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गेनाइजेशन (ISRO)के वैज्ञानिक संपर्क साध …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Citizenship Bill पर शिवसेना का यू-टर्न, उद्धव बोले- राज्यसभा में नहीं करेंगे समर्थन जबतक…     |     Citizenship Bill को लेकर सरकार पर विपक्ष हमलावर, राहुल बोले- भारतीय संविधान पर हमला     |     सड़क पर गुब्बारा बेच रहे बच्चे को नुसरत जहां ने लगाया गले, KISS करते हुए शेयर की फोटो     |     भीड़ में दिखा 12 साल पुराना दोस्त, प्रोटोकॉल भूल राष्ट्रपति कोविंद ने बुलाया स्टेज पर     |     SC का आदेश, वडाला से कासारवदावली तक पेड़ गिराए जाने पर सुनाए मुंबई हाईकोर्ट फैसला     |     कश्‍मीर में बहाल हो सामान्‍य हालात, भारत में EU के राजदूत उगो अस्‍तुतो     |     नार्थ ईस्ट में जारी हंगामा, असम में हिंसक हुआ विरोध प्रदर्शन     |     अमेरिका में सिख ड्राइवर का नस्ली अपशब्द कहे और गला घोंटने की कोशिश     |     ट्रंप पर डेमोक्रेट्स का हमला, बताया- राष्‍ट्रीय सुरक्षा के लिए है ‘खतरा’     |     दुष्‍कर्म के खिलाफ दुनियाभर की महिलाओं की आवाज बना है एक गीत, कई देशों में हो रहा प्रदर्शन     |    

Makrai Samachar

MAKDAI SAMACHAR © 2018, All Rights Reserved. | Design & Developed by SMC Web Solution.


MAKDAI SAMACHAR © 2018, All Rights Reserved. | Design & Developed by SMC Web Solution.