737 मैक्स 8 को लेकर बोइंग और FAA की खुली पोल, बड़ी गलतिायां आईं सामने

वॉशिंगटनः बोइंग के नए मॉडल 737 मैक्स 8 को लेकर चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई है जिसमें बोइंग और अमेरिकी संघीय विमानन प्रशासन (FAA) की पोल खुल गई है। रिपोर्ट के अनुसार 737 मैक्स 8 की प्रमाणन प्रक्रिया के दौरान बोइंग और अमेरिकी संघीय विमानन प्रशासन (FAA) द्वारा की गई त्रुटियां सामने आई हैं। 2015 में नए मैक्स 737 को प्रमाणित करने के लिए एफएए के प्रबंधकों ने सुरक्षा इंजीनियरों से बोइंग की सुरक्षा का आंकलन और तेजी से परिणाम विश्लेषण को मंजूरे देने को कहा था।

बोइंग ने नए 737 मैक्स मॉडल के मैनोवरिंग कैरेक्टरस्टीक ऑगमेनटेशन सिस्टम (एमसीएएस) से संबंधित एक रिपोर्ट एफएए को सौंपी थी। इस रिपोर्ट में विमान को प्रमाणित करने के लिए बताया गया था, कि विमान उड़ान के लिए सुरक्षित है लेकिन इसमें कई त्रुटियां थीं। विमान का ये सिस्टम (MCAS) पांच महीने में दो बड़े विमान हादसों के बाद अब जांच के दायरे में है। सीटल्ड टाइम्स अखबार की ये रिपोर्ट उन वर्तमान और पूर्व इंजीनियरों के इंटरव्यू पर आधारित है, जो सिस्टम के मूल्यांकन से जुड़े थे या दस्तावेजों से परिचित थे। इन लोगों से अपनी पहचान छिपाए रखने को कहा गया था। ये सिस्टम विमान को आपातकाल के समय सुरक्षा प्रदान करने के लिए जिम्मेदार है।

अगर ऊंचाई पर किसी तकनीकी खराबी के कारण खतरा महसूस हो तो इसी सिस्टम की सहायता से विमान को धीरे-धीरे नीचे लाने में मदद मिलती है। वहीं अगर विमान खतरा होने के बावजूद भी ऊंचाई में ही उड़ता रहा और ये सिस्टम ठीक से काम ना करे तो दुर्घटना हो सकती है। इस सिस्टम के काम ना करने की स्थिति में विमान तेजी से जमीन की ओर आकर गिर जाता है। बोइंग ने शनिवार को अखबर से कहा कि एफएए ने विमान के कंपीन के डाटा की समीक्षा की थी और यह सभी प्रमाणन और नियामक आवश्यकताओं को पूरा करता है। वहीं कंपनी ने इंजीनियरों की टिप्पणी को झूठा बताया है।

इंजीनियरों का कहना है कि ये संदेह है कि अक्तूबर में लॉयन एयर विमान हादसे का कारण यही फ्लाइट कंट्रोल सॉफ्टवेयर था। इथोपिया विमान हादसे के बाद ये सिस्टम एक बार फिर चर्चा में आ गया है। अखबार के मुताबिक पायलट द्वारा इस्तेमाल किए जाने पर सिस्टम कैसे रीसेट होगा, ये भी विश्लेषण में शामिल नहीं है। एफएए के तकनीकी विशेषज्ञों ने अखबार को बताया कि 737 मैक्स की एजेंसी के प्रमाणन के लिए, प्रबंधकों ने उन्हें प्रक्रिया को तेज करने के लिए कहा था। इसके पीछे का कारण था कि मैक्स का विकास प्रतिद्वंद्वी एयरबस के A32neo से नौ महीने पीछे था।

About Mohan Gurjar

Mohan Gurjar

Check Also

ब्रिटेन-आस्ट्रलिया से जुड़े श्रीलंका ब्लास्ट्स के तार, पढे़-लिखे व अच्छे परिवारों से थे हमलावर

कोलंबोः सीरियल ब्लास्ट्स मामले में श्रीलंका के रक्षा मंत्री रुवन विजयवर्धने ने भी स्वीकार किया कि …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Makrai Samachar

एक बार फिर मोदीमय हुआ देश, जानिए सोशल मीडिया पर किस तरफ जा रही लहर     |     विमानवाहक पोत INS विक्रमादित्य में लगी आग, नौसेना के एक अधिकारी की मौत     |     बोल्ड लुक छोड़ सीधी-सादी बनीं हिना खान, पहली डेब्यू फिल्म का फर्स्ट लुक आया सामने     |     मॉर्डन से देसी बनीं सपना चौधरी, गाय के साथ यूं किया टाइम स्पेंड     |     मां मधु संग रेस्टोरेंट के बाहर स्पॉट हुई प्रियंका, ग्रीन ड्रेस में ढाया कहर     |     IPL: राजस्थान को लगा झटका, अपने देश वापस लौटेंगे स्मिथ, ये खिलाड़ी होगा नया कप्तान     |     विश्व कप: गांगुली की भविष्यवाणी, सेमीफाइनल तक जाएंगी ये 4 टीमें, लिस्ट में PAK भी शामिल     |     हैम्पशायर के लिए जून में काउंटी खेलेंगे अजिंक्य रहाणे     |     चंद्रबाबू नायडू का आरोप-चुनाव आयोग हड़प रहा राज्य सरकार की शक्तियां, काम में बन रहा बाधा     |     श्रीलंका आंतकी हमला: पुलिस की एक गलती ने पूरे देश को किया शर्मसार     |    

MAKDAI SAMACHAR © 2018, All Rights Reserved. | Design & Developed by SMC Web Solution.


MAKDAI SAMACHAR © 2018, All Rights Reserved. | Design & Developed by SMC Web Solution.