जागरूकता द्वारा ही दहेज़ की बुराई को समाप्त किया जा सकता है – कु, रक्षा गौर

मदन गौर सवांददाता
हरदा// कौन कहता है की देहातों में प्रतिभाओं की कमी है आज भी बेटों से बेटियों आगे हैं बेटियों को कभी बोझ मत समझना बेटी है तो कल है यह वांनगी गौर समाज के आदर्श सामूहिक विवाह मै देखने को मिली देहात में जन्म लिया बड़ी हुई और सरकारी स्कूल में पढ़ी और संस्कारवान बनी इस बालागाँव की बेटी ने मां बाप का मान सम्मान तो बढ़ाया लेकिन साथ साथ जब मंच पर बोलने पर कहां गया तो रक्षा गौर ने अपने उद्बोधन पर बसंत पंचमी के पावन पर्व पर रविवार को क्षत्रिय कुर्मी गौर समाज आदर्श सामूहिक विवाह सम्मेलन मै रक्षा गौर द्वारा सामुहिक विवाह आयोजन मै मंच पर बोलने का अवसर मिला। जिसमें महिलाओ और पुरुषों को समाजिक गतिविधियों पर हर बिन्दुओं पर चर्चा करना चाहिऐ रक्षा गौर ने अपने ओजस्वी भाषण से कहा कि पुरानी रूणीवादी खत्म हों आज के चालीसवाँ सम्मेलन मै दहेज न लेने और न देने बारे जागरूक किया गया बेटी बचाओ बेटी पढाओ नारे मै तो अच्छा लगता है।पर इसे अमल मै कोई नही लेता दहेज रूपी दानव को जड़ से समाप्त होना चाहिये लडकी व लडक़े की शादी के समय न तो दहेज दें और न ही दहेज लें क्योंकि यह एक सामाजिक बुराई है तथा एक कानूनी अपराध भी है। यह सामाजिक बुराई तभी खत्म हो सकती है जब लड़कियां व महिलाएं इसके प्रति जागरूक हों। कुमारी रक्षा गौर ने कहा कि हमारे ग्राम बालागाँव के राधेश्याम गौर ने गौर समाज के समाजिक मंच पर 31/1/1990को दहेज़ न लेने की शपथ लेकर पुरजोर तरीक़े से इस कुप्रथा का सक्रिय होकर विरोध कर चुके हैं और आज तक निभा रहे हैं उन्होंने कहा कि सबसे
बड़ा दहेज खुद लडक़ी है क्योंकि लड़कियां पढ़ी लिखी समझदार व अपने पांव पर खड़ी हैं और लडक़ों के साथ कंधे के कंधा मिलाकर कार्य कर रही हैं तथा उन्होंने अपनी एक नई पहचान बनानी शुरू कर दी है। अब भी समाज में दहेज के कारण बहुत सी लड़कियों को अपनी जान भी देनी पड़ जाती है। मैं इस सामाजिक मंच के द्वारा आपको चेतावनी देती हूं कि आप कुआरी मर जाना पर दहेज लोभियों को दहेज मत देना बेटियों को बोझ मत समझना जागरूकता द्वारा ही इस सामाजिक बुराई को समाप्त किया जा सकता है। जैसे लड्डू पच मृत्यु भोज विवाह शादियों में डीजे आतिशबाजी भी कम होना चाहिए व्यर्थ का दिखावा ना करें समय का सही सदुपयोग करें जिससे अर्थ बचेगा वह आपके ही काम आएगा इस मौके पर अदिति ने स्वागत गीत गाकर सभी समाजिक बंधुओं का अभिवादन किया वही पर नंदनी गौर ने मंच पर विदाई गीत सुनाया तब विवाह स्थल पर एक पल के लिए सन्नाटा छा गया और सभी की आंखों में आंसुओं की धार टप टप टप आते रहे और भाव विभोर होकर इस बेटी के विदाई गीत को श्रवण करते रहे आदर्श सामूहिक विवाह सम्मेलन त्रिवेणी संगम ग्राम दुलिया में समिति के तमाम आयोजक एवं समाज के प्रतिनिधि एवं वर वधू और उनके सभी रिश्तेदार जिले की तमाम गौर समाज एकत्रित थी इन बेटियों ने सभी का दिल जीत लिया और आंखें नम कर दी

About Mohan Gurjar

Mohan Gurjar

Check Also

15 साल से मामा ससुर कर रहा था दुष्कर्म, पति को दे रहा था जान से मारने की धमकी,पीड़िता महिला ने थाने में की शिकायत

हरदा/ टिमरनी। टिमरनी थाना क्षेत्र के ग्राम भादुगॉव की एक पीड़ित महिला ने अपने मामा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Makrai Samachar

अनियंत्रित स्कूल बस कार व बाइक से टकराई, 1 छात्रा घायल     |     फातिमा रसूल सिद्दीकी करेंगी साध्वी प्रज्ञा के लिए चुनाव प्रचार, पहले रखी ये शर्त     |     दिग्गी राजा का आरोप- BJP ने किया दिखावटी और असरकारी विकास     |     कमलनाथ का PM मोदी पर वार, बोले- 5 साल पहले चायवाला बनकर आए, अब चौकीदार     |     साध्वी प्रज्ञा को लेकर BJP में ही उठने लगे हैं विरोध के सुर, फातिमा ने उठाए अपनी ही पार्टी पर सवाल     |     आज MP आएंगे PM मोदी, ये है दौरे का शेड्यूल     |     केजरीवाल की तरह वोट नहीं मांगना चाहती ममता ‘दीदी’, कहा- इससे लोग मान जाते हैं बुरा     |     वायुसेना की रिपोर्ट में खुलासा: बालाकोट में भेदे थे 6 में से 5 लक्ष्य     |     लोकतंत्र की लड़ाई में जीत के लिए नेताओं से ज्यादा सितारों पर भरोसा     |     मोदी पर बनी बायोपिक पर प्रतिबंध संबंधी आदेश में हस्तक्षेप से SC का इनकार     |    

MAKDAI SAMACHAR © 2018, All Rights Reserved. | Design & Developed by SMC Web Solution.


MAKDAI SAMACHAR © 2018, All Rights Reserved. | Design & Developed by SMC Web Solution.