आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने माइनिंग प्रस्तावों पर निर्णय ले केन्द्र मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ की प्रधानमंत्री से मुलाकात, खनन, कृषि विषयों पर चर्चा

दिल्ली/ मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने नई दिल्ली में आज प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की और कृषि एवं खनन से जुड़े मुददों पर विस्तार से चर्चा की। श्री नाथ ने राज्य की आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिये माइनिंग लीज पाने की पात्रता रखने वाले 27 प्रकरण में जल्द से जल्द निर्णय लेने का अनुरोध किया। श्री कमल नाथ ने प्रधानमंत्री को विस्तार से बताया कि मध्यप्रदेश के करीब 170 आवेदन हैं जो खदान एवं खनिज (विकास एवं नियमन) अधिनियम की धारा 10-ए और 2-बी के अंतर्गत माइनिंग लीज अनुदान पाने की पात्रता रखते हैं। इन प्रस्तावों पर जल्द निर्णय होने से राज्य की आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा।

मुख्यमंत्री ने बताया कि जनवरी 2015 में खदान और खनिज (विकास एवं नियमन) अधिनियम मध्यप्रदेश जैसे राज्य जिला खनिज कोष के नये प्रावधानों का लाभ उठा रहे हैं। साथ ही वे अधोसंरचना के विकास और खनन गतिविधियों से प्रभावित क्षेत्रों के लोगों के लिये अन्य संकेतकों को सुधारने में भी योगदान दे रहे हैं।

प्राइज डेफिसिट योजना के 575.90 करोड़ रूपये जारी करने का आग्रह

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने प्रधानमंत्री का ध्यान तिलहन के लिये प्राइज डेफिसिट भुगतान योजना के क्रियान्वयन लागत की शेष राशि 575.90 करोड़ रूपये शीघ्र जारी करने का आग्रह किया है। उन्होंने प्रधानमंत्री समर्थन मूल्य तय करने के पूर्व के निर्णय को आगे बढाते हुए अभियान के क्रियान्वयन के संबंध में ध्यान आकृष्ट करते हुए कहा कि अभियान के माध्यम से किसानों को उनकी उपज का न्यूनतम समर्थन मूल्य सुनिश्चित करने के लिये राज्य सरकार प्रतिबद्ध है।

श्री नाथ ने श्री मोदी को बताया कि मध्यप्रदेश सरकार ने 1951.80 करोड़ रूपये किसानों को भुगतान किये थे जो न्यूनतम समर्थन मूल्य और आदर्श विक्रय मूल्य का अंतर था। उन्होंने कहा कि यदि यह फसल नाफेड द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उपार्जित होती तो प्रशासनिक लागत और हानि करीब 2800 करोड़ आती।

मुख्यमंत्री ने लागत में 50 प्रतिशत की भागीदारी भारत सरकार द्वारा करने के निर्णय को देखते हुए शेष 575.90 करोड़ रूपये शीघ्र जारी करवाने का आग्रह किया ।

सोयाबीन के लिये म.प्र. का लक्ष्य 26.92 लाख मीट्रिक टन करने का आग्रह

मुख्यमंत्री ने सोयाबीन के लिये प्राइज डेफिसिट योजना में राज्य के उत्पादन का 40 प्रतिशत यानी 26.92 लाख मीट्रिक टन लक्ष्य तय करने का आग्रह किया है।

श्री नाथ ने कहा कि प्राइज डेफिसिट योजना की गाइडलाइन में राज्य को दिये लक्ष्य को उत्पादन का 25 प्रतिशत से बढ़ाकर 40 प्रतिशत करने के तरीके का उल्लेख नहीं किया गया है जबकि यही मूल्य समर्थन योजना की गाइडलाइन में अंकित है। उन्होंने प्राइज डेफिसिट योजना में परिवर्तन करने का आग्रह करते हुए कहा कि इससे उत्पादन के 25 प्रतिशत के लक्ष्य को 40 प्रतिशत तक बढ़ाया जा सकेगा।

About Mohan Gurjar

Mohan Gurjar

Check Also

SC की RBI को चेतावनी, RTI के तहत दे बैंकों की वार्षिक रिपोर्ट की जानकारी, वर्ना होगी कार्रवाई

नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को आरबीआई से आरटीआई के तहत सूचना के खुलासे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Makrai Samachar

फातिमा रसूल सिद्दीकी करेंगी साध्वी प्रज्ञा के लिए चुनाव प्रचार, पहले रखी ये शर्त     |     दिग्गी राजा का आरोप- BJP ने किया दिखावटी और असरकारी विकास     |     कमलनाथ का PM मोदी पर वार, बोले- 5 साल पहले चायवाला बनकर आए, अब चौकीदार     |     साध्वी प्रज्ञा को लेकर BJP में ही उठने लगे हैं विरोध के सुर, फातिमा ने उठाए अपनी ही पार्टी पर सवाल     |     आज MP आएंगे PM मोदी, ये है दौरे का शेड्यूल     |     केजरीवाल की तरह वोट नहीं मांगना चाहती ममता ‘दीदी’, कहा- इससे लोग मान जाते हैं बुरा     |     वायुसेना की रिपोर्ट में खुलासा: बालाकोट में भेदे थे 6 में से 5 लक्ष्य     |     लोकतंत्र की लड़ाई में जीत के लिए नेताओं से ज्यादा सितारों पर भरोसा     |     मोदी पर बनी बायोपिक पर प्रतिबंध संबंधी आदेश में हस्तक्षेप से SC का इनकार     |     कठुआ की पारलीवंड में नगर परिषद ने करवाई फागिंग, घरों में सफाई रखने की अपील     |    

MAKDAI SAMACHAR © 2018, All Rights Reserved. | Design & Developed by SMC Web Solution.


MAKDAI SAMACHAR © 2018, All Rights Reserved. | Design & Developed by SMC Web Solution.